5 कारण जो सिराज को बनाती हैं शमी से बेहतर विकल्प, जानें क्यों बुमराह की कमी को कर सकते हैं पूरा

ऑस्ट्रेलिया की मेजबानी में खेले जाने वाले टी20 विश्वकप से पहले भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के शामिल होने पर लगातार संशय बना हुआ है. हाल ही में एक खबर आई थी कि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह पीठ की चोट के चलते विश्वकप से बाहर हो गये हैं,

हालांकि गुरुवार को बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने एक इंटरव्यू के दौरान यह कहा कि उनकी चोट उतनी गंभीर नहीं है जितनी कि मानी जा रही थी. ऐसे में वो टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया तो जायेंगे लेकिन उनकी फिटनेस पर लगातार नजर रखी जाएगी.

बुमराह की जगह सिराज और मलिक को किया गया रिजर्व

बुमराह की मेडिकल फिटनेस पर सोमवार को फैसला लिया जाएगा और उसके बाद ही यह जानकारी दी जाएगी कि वो कब तक विश्वकप की टीम का हिस्सा बन सकेंगे.

इस बीच बीसीसीआई ने उमरान मलिक और मोहम्मद सिराज को विश्वकप की टीम में स्टैंड बाय खिलाड़ी के रूप में शामिल किया है और ये दोनों खिलाड़ी भी टीम के साथ 6 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया के लिये उड़ान भरेंगे.

ऐसे में आइये एक नजर उन कारणों पर डालते हैं जिसके चलते अगर जसप्रीत बुमराह को टीम से बाहर होना पड़ता है तो वो मोहम्मद सिराज उनकी जगह क्यों शामिल किये जा सकते हैं और साथ ही वो कैसे उनकी कमी को पूरा कर सकते हैं. इतना ही नहीं वो टीम में मोहम्मद शमी और उमरान मलिक से ज्यादा बेहतर विकल्प क्यों हैं इस पर भी बात करेंगे.

 

गाबा में मिली ऐतिहासिक जीत के हीरो रहे थे सिराज

मोहम्मद सिराज की बात करें तो अभी तक टी20 क्रिकेट में ज्यादा मौका नहीं मिल सका है लेकिन वो भारत की उस टेस्ट टीम का हिस्सा जरूर रहे हैं जिसने गाबा के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया का घमंड तोड़ा था.

सिराज ने उस मैच में शानदार गेंदबाजी करते हुए दूसरी पारी में 5 विके झटक टीम को जीत दिलाई थी. सिराज ऑस्ट्रेलिया की सरजमीं पर खेले गये 3 टेस्ट मैचो में 13 विकेट झटक चुके हैं, ऐसे में ऑस्ट्रेलिया की उछाल भरी और तेज बॉलर्स की मददगार पिच पर सिराज ज्यादा खतरनाक साबित हो सकते हैं.

गेंदबाजों के मुफीद होते हैं ऑस्ट्रेलियाई मैदान

ऑस्ट्रेलियाई मैदान तेज गेंदबाजों के मुफीद माने जाते हैं और सिराज के अब तक के करियर में यह देखने को भी मिला है. सिराज मैदान पर आक्रामक रवैये से गेंदबाजी करते हैं जिससे खिलाड़ियों में अलग ही जोश नजर आता है, ऐसे में बुमराह की गैरमौजूदगी में उनकी आक्रामकती टीम का रुख बदल सकती है.

पावरप्ले में करते हैं अच्छी गेंदबाजी

मोहम्मद सिराज की बात करें तो वो पावरप्ले में काफी शानदार गेंदबाजी करते हैं. वह अपने टी20 करियर में अब तक 60 पारियों में 636 गेंदें पावरप्ले में डाल चुके हैं. इस दौरान उन्होंने 8.45 की इकॉनमी से रन दिये हैं तो वहीं पर 22 विकेट भी चटकाये है.

 

इसका मतलब है कि जब मैच के पहले हिस्से में बल्लेबाज तेजी से रन बनाने की ओर देखता है तो वहां पर सिराज ने न सिर्फ बल्ले को शांत रखा है बल्कि टीम को विकेट दिलाकर जीत में भी अहम भूमिका निभाई है.

काउंटी से शानदार प्रदर्शन कर की है वापसी

मोहम्मद सिराज की बात करें तो हाल ही में जब उन्हें भारतीय टीम में जगह नहीं मिली तो उन्होंने इंग्लैंड में खेली जाने वाली काउंटी क्रिकेट में वारविकशयर के लिये डेब्यू किया और पहले ही मैच में 5 विकेट हॉल लेकर छा गये.

सिराज ने अपनी गेंदबाजी के दौरान पाकिस्तान के इमाम उल हक समेत इंग्लैंड के जॉर्ज बार्टलेट, जेम्स रेव, लुईस ग्रेगरी और जोश डेवी का विकेट चटकाया. अपने हालिया प्रदर्शन को देखने के बाद सिराज का जोश 7वें आसमान पर होगा.

शानदार रहा है अब तक का रिकॉर्ड

मोहम्मद सिराज के रिकॉर्ड की बात करें तो जब भी मौका मिला है उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ देने का प्रयास किया है. वो भारत के लिये अब तक 13 टेस्ट, 10 वनडे और 5 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 30.77 की औसत से 40 टेस्ट, 31.07 के एवरेज से 13 वनडे और 5 टी20 विकेट भी चटकाये हैं.