एमएस धोनी की टीम CSK से मिले एक सबक ने बदल दी चेतेश्वर पुजारा की बल्लेबाजी? खुद खोला राज

नमस्कार दोस्तों टीम इंडिया के टेस्ट स्पेशलिस्ट बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा भारत के लिए टी-20 और वनडे क्रिकेट में मैदान पर नहीं नजर आते हैं। कुछ समय पहले उन्हें खराब प्रदर्शन के बाद टेस्ट टीम से भी बाहर कर दिया गया।

जिसके बाद उन्होंने इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट खेलने का फैसला किया जहां पर उनके खेल में अभूतपूर्व सुधार देखने को मिला है। जिसके बाद वे भारत की टेस्ट टीम में वापसी करने में सफल रहे हैं।

काउंटी क्रिकेट में धमाल मचाने के बाद चेतेश्वर पुजारा ने वनडे क्रिकेट में बेहतर बल्लेबाजी के लिए रॉयल लंदन कप में खेलने का फैसला किया। उनका यह फैसला सही भी साबित हुआ। उन्होंने अपनी बल्लेबाजी में बदलाव करते हुए वनडे क्रिकेट को आक्रामक अंदाज में खेलना शुरू किया।

उन्हें सफलता भी मिली। उन्होंने इस कप में ससेक्स की कप्तानी करते हुए उन्होंने 9 मैच में 89 से भी अधिक की औसत और 111 के स्ट्राइक रेट से 624 रन ठोक डालें। इस दौरान उन्होंने तीन शतक और दो हाफ सेंचुरी भी लगाई।

रॉयल लंदन वनडे कप में किया था कमाल का प्रदर्शन

रॉयल लंदन कप में 624 रन बनाने के साथ ही चेतेश्वर पुजारा(Cheteshwar Pujara) इस टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन बनाने के मामले में नंबर दो पर रहे।

दूसरी तरफ चेतेश्वर पुजारा काउंटी चैंपियनशिप के डिवीजन टू में सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में नंबर तीन पर थे। उन्होंने काउंटी क्रिकेट में ससेक्स लिए आठ मुकाबलों की 13 पारियों में 109 की एवरेज के साथ 1094 रन बनाए थे। इस दौरान उनके बल्ले से 5 सेंचुरिया भी निकली थी।

‘सीएसके के लिए खेलने का नहीं मिला था मौका’

भारत के दिग्गज बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने ‘द क्रिकेट पॉडकास्ट’ से बात करते हुए कहा,” उन्हें साल 2021 के आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेलने का मौका नहीं मिला था।

और इस बार के ऑक्शन में उन्हें किसी ने खरीदा नहीं। इसके बाद मुझे नई चीजें सीखने की प्रेरणा मिली और मैंने उन पर काम करना शुरू किया। और अब मैं फटाफट क्रिकेट में भी शानदार प्रदर्शन कर सकता हूं।”